भड़काऊ एवं अमर्यादित बयान प्रतिबंधित हो : रिजवी

1 min read

File Photo

रायपुर. जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के मीडिया प्रमुख, मध्यप्रदेश पाठ्यपुस्तक निगम के पूर्व अध्यक्ष, पूर्व उपमहापौर तथा वरिष्ठ अधिवक्ता इकबाल अहमद रिजवी ने कहा है कि देश में कुछ साम्प्रदायिक सोच रखने वाले जनप्रतिनिधि सार्वजनिक रूप से अपने बयानों द्वारा देश के सौहार्द्रपूर्ण वातावरण को जानबूझकर वर्ग विशेष के धर्म या धार्मिक विश्वासों को अपमानित करने की मंशा के तहत आजकल कुछ ज्यादा ही बढ़-चढ़ कर जहर उगल रहे हैं। यह कृत्य देश की एकता, अखण्डता एवं सौहार्द्रपूर्ण वातावरण की सोची-समझी साजिश के तहत नष्ट करने का कुप्रयास है। इससे देश को खंडित एवं पुनः विभाजित करने की ओछी मानसिकता परिलक्षित होती है जो किसी षड़यंत्र की ओर इंगित करता है।

रिजवी ने आगे कहा है कि जन प्रतिनिधियों द्वारा भड़काऊ, उत्तेजक एवं विस्फोटक बयान देने पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत तत्काल गिरफ्तार कर दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 295 (ए) के अंतर्गत अपराध पंजीबद्ध करना राष्ट्रहित में होगा तथा दोषी पाए जाने पर जनप्रतिनिधि को तत्काल पदमुक्त किए जाने का प्रावधान किया जाए। इस प्रक्रिया से बड़बोले और उन्माद फैलाने वाले तथाकथित नेताओं एवं जनप्रतिनिधियों पर लगाम कसी जा सकती है तथा उन्हें चुनाव लड़ने से अपात्र घोषित किये जाने का कानून बनाना वक्त का तकाजा है।

रिजवी ने देश के महामहिम राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री एवं मुख्य चुनाव आयुक्त को पत्र लिखकर आग्रह करते हुए कहा है कि इस दिशा में तत्काल पहल एवं कड़ी कार्यवाही देशहित में होगी और देश के संविधान के अनुरूप सभी धर्मावलम्बियों के धार्मिक विश्वासों एवं सम्मान को सभी वर्ग सम्मान की दृष्टि से देखेंगे। ऐसी प्रतिबद्धता की आज देश व जनमानस के लिए अवश्यंभावी है ताकि देश का सेक्यूलर स्वरूप बरकरार रह सके।

Copyright © All rights reserved. | CG Varta.com | Newsphere by AF themes.