आपदा में अवसर : सुपर सीएमएचओ की सेंटिंग नहीं हुआ तो डायग्नोसिस सेंटर करा दिया सील

1 min read

बिलासपुर. कोरोनाकाल में शहर के छोटे बड़े सभी डायग्नोसिस सेंटर और लैब और अस्पताल ने लुट मचा रही है। इसके बाद भी स्वास्थ्य विभाग इनपर कोई कार्रवाही नहीं कर रही जांच के नाम पर अवैध वसूली के अलावा अस्पताल में लाशों को बंधक भी बना रहे, लेकिन अधिकारी के कान में जु तक नहीं रेंग रही। ऐसे में एक सिटी स्कैन के बदल 1000 से 1500 रुपए ज्यादा लेने पर स्वास्थ्य विभाग के सुपर सीएमएचओ कहे जाने वाले विजय प्रकाश सिंह (नेत्र सहायक) और विभाग के एक कंप्युटर ऑपरेटर का काम कर रहे कर्मचारी लिंक रोड़ स्थित मान्या डायग्नोसिस सेंटर पहुंचकर उसे सील कर दिए। ये बाद हजम नहीं हो रही है।

संस्थान के सूत्रों का कहना है कि तथकथित सुपर सीएमएचओ विजय प्रकाश सिंह ने शिकायत के नाम पर सेंटिग करने की कोशिश है। लेकिन दाल नहीं गली तो ये कार्रवाही कर दी है। वहीं विभाग के मुखिया सीएमएचओ डॉक्टर प्रमोद महाजन से बड़े बड़े संस्थानों की शिकायत पर उनके खिलाफ कार्रवाही न कर छोटे-मोटे डायग्नोसिस सेंटर पर कार्रवाही क्यों की जा रही तो उन्होंने साफ कह दिया कि मुझे पता ही नहीं कि कहाँ कार्रवाई हुई और किस डायग्नोसिस सेंटर को सील किया गया है। विभाग प्रमुख के इस जवाब से अस्पताल के सूत्र का आरोप सही लग रहा है। इन दिनों सीएमएचओ के नाम से स्वास्थ्य विभाग का ये सुपर सीएमएचओ विजय सिंह जिन्हें कलेक्टर भी डॉ. विजय सिंह कहते है। वो खूब मालामाल हो रहें है और आम जनता संक्रमण काल में ही बिस्तर के लिए तरस रहें है। लेकिन इन्हें केवल पैसे कमाने है। जनता चाहे मर जाए।

Copyright © All rights reserved. | CG Varta.com | Newsphere by AF themes.