गौरेला-पेंड्रा-मरवाही के अधिकारी हिंदी में फेल, मुख्यमंत्री के नाम समेत आधा दर्जन से ज्यादा गलतियों वाली शिलापट से CM के हाथों कोविड अस्पताल का करवाया लोकार्पण

1 min read

गौरेला-पेंड्रा-मरवाही. गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिला व यहां के अफसर काफी चर्चा में हैं। यह किसी उपलब्धि को लेकर नहीं, बल्कि एक बड़ी लापरवाही को लेकर है, जिसके चलते प्रदेश भर में संबंधित अधिकारियों की काफी फजीहत हो रही है। दरअसल पेंड्रा-गौरेला-मरवाही जिले में आज 66 बेड के डेडीकेटेड कोविड अस्पताल का लोकार्पण मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से किया गया है। इस दौरान पर्दा हटाते ही दिखे शिलापट पर आधा दर्जन से ज्यादा गलतियां सामने आई। शिलापट पर किसी का नाम गलत लिखा हुआ है तो किसी का सरनेम, यहां तक की प्रदेश का नाम व मुख्यमंत्री भी गलत अंकित है.

शिलापट पर लिखा सबसे पहला शब्द प्रदेश का नाम “छत्तीसगढ” ही गलत लिखा है, ढ़ के नीचे बिन्दु गायब है। जिसके बाद तीसरी लाइन में लोकापर्ण गलत लिखा है, यहां लोकार्पण होना चाहिए। इसके बाद मुख्यमंत्री भी गलत अंकित है यहां “मुख्यमत्री” ने बिंदु गायब है। सांसद का नाम गलत लिखा गया है, ज्योत्सना चरणदास महंत को ज्योत्सना चरणदास मंहत अंकित है। शिलापट पर सांसद को दो स्थानों पर सासंद लिखा गया है। वही दो स्थानों पर विधानसभा को विधासनभा लिखा गया है।

Copyright © All rights reserved. | CG Varta.com | Newsphere by AF themes.