जॉनसन एंड जॉनसन की एक खुराक वाली वैक्सीन को अमेरिका में मंजूरी, 66 फीसदी प्रभावी

1 min read

वॉशिंगटन. जॉनसन एंड जॉनसन की एक मात्र खुराक वाली कोविड-19 वैक्सीन को अमेरिका में मंजूरी मिल गई है. ‘फाइजर’ और ‘मॉर्डना’ के बाद ये अमेरिका की तीसरी वैक्सीन है, जिसे FDA ने इमरजेंसी के तौर पर इस्तेमाल करने की अनुमति दी है. एफडीए के वैज्ञानिकों ने इस बात की पुष्टि की है कि यह वैक्सीन कोविड-19 के मध्यम से गंभीर स्तर के संक्रमण को रोकने के लिए करीब 66 फीसदी प्रभाव क्षमता रखती है. बेहद गंभीर बीमारी में यह 85 फीसदी प्रभावी है.

एफडीए ने कहा कि जॉनसन एंड जॉनसन की ये वैक्सीन उपयोग के लिए सुरक्षित है. इस टीके की दो के बजाय सिर्फ एक खुराक देने की जरूरत होगी. कंपनी ने अमेरिकी कांग्रेस को बताया था कि उनके द्वारा मार्च के अंत तक दो करोड़ और जून तक दस करोड़ खुराकों की आपूर्ति कराई जा सकती है. कंपनी का लक्ष्य साल के अंत तक एक अरब खुराकों के उत्पादन करना है.

जॉनसन एंड जॉनसन अमेरिका, लैटिन अमेरिका और दक्षिण अफ्रीका में करीब 44,000 वयस्कों में दो महीने की चिकित्सकीय देखरेख के साथ अपने सिंगल डोज वैक्सीन को परख चुका है. अमेरिकी एफडीए ने इस वैक्सीन के बारे में कहा, “इस विश्लेषण में सुरक्षा के सभी मानक पूरे किए गए हैं और सुरक्षा से संबंधित ऐसे किसी भी चिंताजनक स्थिति की पहचान नहीं की गई, जिससे कि इसके आपातकालीन उपयोग में बाधा उत्पन्न हो.”

अमेरिका में कोविड-19 से मौत का आंकड़ा करीब सवा पांच लाख के पार पहुंच गया है. हालांकि देश में संक्रमण दर में धीरे-धीरे गिरावट देखने को भी मिल रही है. अमेरिका में अब तक करीब 4.45 करोड़ लोगों को फाइजर या मॉडर्ना द्वारा निर्मित टीके की कम से कम एक खुराक लगी है. वहीं, दो करोड़ लोगों को दूसरी खुराक मिल चुकी है.

Copyright © All rights reserved. | CG Varta.com | Newsphere by AF themes.