भारत अभी भी दुनिया के सबसे सुरक्षित देशों में से एक, जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी ने डेटा के जरिए दी जानकारी

देश में कोरोना संक्रमण से हालात अभी भी भयावह बने हुए हैं. हर दिन तीन लाख से साढ़े तीन लाख के करीब या इससे ज्यादा नए केस आ रहे हैं और करीब चार हजार संक्रमितों की जान जा रही है. कोरोना के केस बढ़ने के कारण कई राज्यों में लॉकडाउन लगाना पड़ा है.

हालांकि अच्छी बात ये है कि भारत अभी भी दुनिया के कई देशों की तुलना में बेहतर जगह है. अमेरिका की जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी ने दुनिया तमाम देशों के डेटा का विश्लेषण करते हुए एक रिपोर्ट जारी की है. इसमें कहा गया है कि भारत अब भी सबसे सुरक्षित देशों में से एक है. फ्रांस, आस्ट्रेलिया, जर्मनी, अमेरिका स्वीडन, ब्रिटेन और इटली जैसे देशों की तुलना में भारत ज्यादा सुरक्षित देश है.

जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी ने कुल संक्रमितों के आधार पर मृत्यु दर और प्रति एक लाख की जनसंख्या के आधार पर मृत्यु दर आंकड़े जारी किए हैं. इसमें बताया गया है कि बेल्जियम में प्रति एक लाख की जनसंख्या के आधार पर 214 मौतें, इटली में 204, ब्रिटेन में 191 और अमेरिका में 177 मौतें हो रही हैं. जबकि भारत में प्रति एक लाख की जनसंख्या के आधार पर मौतों का आंकड़ा 18.01 है.

फ्रांस में प्रति एक लाख की जनसंख्या पर मौतों का आंकड़ा 159, स्वीडन में 138 और स्विट्जरलैंड में 125 है. जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी ने ऐसे 20 देशों की लिस्ट जारी की है. गौरतलब है कि भारत कुल संक्रमितों के मामले में विश्व में दूसरे नंबर पर है.

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटों में 326,098 नए कोरोना केस आए और 3890 संक्रमितों की जान चली गई है. वहीं 3,53,299 लोग कोरोना से ठीक भी हुए हैं. देश में कोरोना से मृत्यु दर 1.09 फीसदी है जबकि रिकवरी रेट 83 फीसदी से ज्यादा है.

Copyright © All rights reserved. | CG Varta.com | Newsphere by AF themes.