डायरिया के बाद हैजा का खतरा, सिम्स में भर्ती मरीजों के सैंपल में मिला बैक्टेरिया

1 min read

बिलासपुर. दूषित पानी से अब हैजा का भी खतरा बढ़ने लगा हैं। सिम्स में डायरिया का इलाज करा रहे मरीजों के सैंपल में हैजा के बैक्टेरिया मिले हैं। इससे स्वास्थ्य विभाग की चिंता बढ़ गई है। नगर निगम को एहतियात बरतने और साफ पानी की सप्लाई करने कहा गया है। सिम्स में भर्ती डायरिया पीड़ित पांच मरीजों के मल में विब्रियो कोलरा बैक्टीरिया के अंश (ई-कोलाई बैक्टीरिया) मिले हैं। यह जानकारी सिम्स प्रबंधन ने शासन को दे दी है।

अब तक तालापारा, तारबाहर, टिकरापारा, जरहाभाठा मिनी बस्ती, विनोबा नगर में डायरिया के 300 से ज्यादा मरीज मिल चुके हैं। करीब 50 मरीजों को सिम्स और जिला अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। वहीं अब तक 7 लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि, स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम के रिकॉर्ड में डायरिया से 4 मौत ही बताई गई है। निगम प्रशासन ने पहले पानी साफ होने का दावा किया था। हालांकि बाद में इन इलाकों से दोबारा सैंपल लेकर जांच कराई गई, जिसमें 5 जगह की रिपोर्ट में दूषित पानी मिला है।

डायरिया फैलने की वजह जानने के लिए पहली बार पानी का सैंपल लेकर जांच की गई। पहली रिपोर्ट में पानी साफ मिला था। तब प्रभावित क्षेत्रों से दोबारा सैंपल लेकर बैक्टीरियल जांच के लिए सिम्स के वायरोलॉजी विभाग भेजा गया। इस बार तालापारा और तारबाहर इलाकों से 21 सैंपल लेकर जांच की जा रही है। हालांकि अभी पूरी जांच रिपोर्ट नहीं आई है। कुछ जगहों के सैंपल में सामान्य डायरिया और टाइफाइड के बैक्टीरिया मिले हैं। इसकी पुष्टि डीन डॉ. केके सहारे ने की है।

ई-कोलाई इश्चेरिचिया कोलाई का संक्षिप्त रूप है। यह एक तरह का बैक्टीरिया है जो मनुष्यों और पशुओं के पेट में हमेशा रहता है, इस बैक्टीरिया के ज्यादातर रूप हानिरहित हैं, लेकिन कुछ ऐसे हैं जो पेट में मरोड़ और दस्त जैसे लक्षण पैदा करते हैं। कई बार इनकी वजह से लोगों का गुर्दा काम करना बंद कर देता है और संक्रमित व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है।

लगातार मरीज मिलने के बाद भी नगर निगम बार-बार यह दावा करता रहा कि पानी साफ है। दिखावे के लिए एक दो जगह से पाइप लाइन को सुधारा गया है, लेकिन अभी भी ज्यादातर जगहों में पाइप लाइन नालियों के अंदर से गुजरी है और इससे घरों में गंदा पानी पहुंचने की बात कही जा रही है। इससे लोगों के बीमार होने की संभावना बनी हुई है।

सीएमएचओ प्रमोद महाजन ने कहा कि तालापारा, टिकरापारा, मरीमाई, तारबाहर और विनोबा नगर से पानी के सैंपल लेकर जांच के लिए सिम्स के लैब में भेजा गया था। इनमें 5 जगहों के सैंपल की जांच में दूषित पानी मिला है। 3 सैंपल की रिपोर्ट नहीं आई। दूषित पानी पीने से ही डायरिया फैलने की आशंका है।

Copyright © All rights reserved. | CG Varta.com | Newsphere by AF themes.