सिंघु बॉर्डर पर ड्रोन से भी नजर रख रही है पुलिस, गांव के रास्ते भी आ सकते हैं किसान

नई दिल्ली. दिल्ली हरियाणा सिंघु बॉर्डर पर रायट कंट्रोल व्हीकल, वाटर कैनन, पैरामिलट्री फ़ोर्स और दिल्ली पुलिस के जवानों की तैनाती के साथ अधिकारी तीसरी आंख यानी ड्रोन कैमरे की मदद से भी नजर रख रहे हैं. पुलिस को इस बात की आशंका है कि किसान बॉर्डर के आसपास लगने वाले गांव के रास्ते बॉर्डर पर पहुंच सकते हैं. यही वजह है कि ड्रोन की मदद से सिंधु बॉर्डर के आसपास के इलाकों पर नजर रखी जा रही है. इन ड्रोन में बेहद हाई रेजॉलूशन कैमरे लगे हैं. जिनसे आसमान से बेहद साफ तस्वीरे भी कैद की जा सकती है, जिससे कि उपद्रवियों चेहरे की पहचान भी की जा सके.

दिल्ली पुलिस के आला अधिकारियों के मुताबिक, करनाल में करीब 1000 किसान इकट्ठा हैं. जिन्हें हरियाणा पुलिस ने रोका हुआ है. दिल्ली पुलिस के अधिकारी लगातार हरियाणा पुलिस के संपर्क में हैं कि अगर किसान करनाल से आगे बढ़ने में कामयाब हो जाते हैं तो उन्हें तुरंत इस बात की सूचना मिल जाएगी. जिसके बाद पुलिस सिंघु बॉर्डर को पूरी तरीके से सील कर देगी.

दिल्ली के सिंघु बॉर्डर और करनाल के बीच की दूरी करीब 150 किलोमीटर है. पुलिस का अंदाज़ा है कि किसे अगर करनाल से आगे बढ़ने में कामयाब हुए तो वे करीब ढाई घंटे मे सिंघु बॉर्डर तक पहुँच जाएंगे. पिछली बार किसानों के उग्र प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली पुलिस कोई कोताही नहीं बरतना चाहती है.

कृषि कानून को लेकर जिस तरीके से किसानों ने पिछली बार दिल्ली में उग्र प्रदर्शन किया था. पाबंदी होने के बावजूद किसान राजपथ तक पहुंचने में कामयाब हो गए थे और वहां पर उन्होंने ट्रैक्टर को आग के हवाले कर दिया था. उसके बाद सबक लेते हुए दिल्ली पुलिस इस बार किसी तरह की कोई कोताही नहीं बरतना चाहती. यही वजह है नई दिल्ली डिस्ट्रिक्ट को तो छावनी में तब्दील किया गया है. साथ ही बॉर्डर पर भी बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है. इस बार दिल्ली पुलिस बॉर्डर के साथ लगने वाले राज्यों की पुलिस के साथ भी लगातार संपर्क बनाए हुए हैं.

Copyright © All rights reserved. | CG Varta.com | Newsphere by AF themes.