रेलवे बोर्ड ने SECR के सिग्नल एवं दूरसंचार विभाग को उत्कृष्ट कार्यों के लिये वर्ष 2020 का शील्ड प्रदान किया गया

1 min read

बिलासपुर. रेलवे बोर्ड के द्वारा दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के सिग्नल एवं दूरसंचार विभाग को सम्मानित करते हुऐ वर्ष 2019-2020 में किये गये उत्कृष्ट कार्यो एवं उपलब्धियों के लिए शील्ड प्रदान किया गया । यह दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के लिए अत्यन्त गौरव का विषय है । वर्ष 2019-2020 में इस विभाग ने कई महत्वपूर्ण कार्य किये हैं। बिलासपुर से दाधापारा, जयराम नगर-गतौरा और घुटकू तक ओटोमेटिक सिगनलिंग का कार्य किया गया। यह कार्य एमएसडीएसी जैसी अत्याधुनिक तकनीकी के साथ किया गया, जिससे सिग्नलिंग की विश्वनीयता तो बढेगी ही साथ ही ट्रैकों पर रेल परिचालन बेहतर हो सकेगा साथ ही बिलासपुर जैसे बडे यार्ड में ट्रेनों का दबाव भी कम होगा । इस वर्ष 82.2 किलोमीटर दोहरीलाईन पर एवं 23.7 एकहरी लाईन के साथ कुल 105.9 किलोमीटर आटो सिग्नलिंग का कार्य सफलतापूर्वक किया गया । यह कार्य एमएसडीएसी के स्टेंडबाई अरेंजमेंट के इनोवेटिव डिजाईन के साथ सम्पादित किया गया है जो न केवल संरक्षा के लिहाज से अव्वल है बल्कि विश्वसनीयता को भी शतप्रतिशत के निकट ले जाता है ।

इस वर्ष कुल 11 स्टेशनों में नई सिग्नलिंग व्यवस्था कमीशन की गई और 22 स्टेशनों पर सिग्नलिंग व्यवस्था में मॉडिफिकेशन का कार्य सफलतापूर्वक समापन किया गया। नया इंटरलॉकिंग बेलपहाड़, ब्रजराजनगर, लजकुरा स्टेशनों में किया गया जिससे बिलासपुर से ब्रजराजनगर तक तीसरी लाईन चालू हो पाई साथ ही यह ईब क्षेत्र के कोयला लदान की बढ़ोत्तरी में सहायक सिद्ध होगा । इस कार्य ने रेल परिचालन को भी सुचारू व समयबद्ध करने में भरपूर योगदान दिया है । गोंदिया जबलपुर सेक्शन में गेज परिर्वतन का कार्य तेजी से चल रहा है । इस वर्ष पादरीगंज, नगरवारा और लाम्टा स्टेशनों को चालू किया गया है । दुर्ग दल्लीराजहरा सेक्शन में रावघाट तक होने वाली नई लाइन की परियोजना को आगे बढाते हुए केवटी स्टेशन की शुरूआत इस वर्ष की गई । अधिक से अधिक कोयला लदान करने के लिये एसइबीपीएल स्टेशन की स्थापना की गई तथा सिगनलिंग व्यवस्था में मॉडिफिकेशन का कार्य खरसिया, गतौरा, जयरामनगर एवं हिमगीर आदि स्टेशनों में साईडिंग के लिए कार्य किया गया ।

रेल सडक संरक्षा को ध्यान में रखते हुए इस वर्ष 19 नॉन इंटरलॉकड समपारो पर इलेक्ट्रिक लिफ्टिंग बैरियर के साथ इंटरलॉकिंग का कार्य किया गया। साथ ही 13 मेकेनिकल टॉइप समपारो पर इलेक्ट्रिक लिफ्टिंग बैरियर की स्थापना की गई और 12 इंटरलॉकड गेट पर स्लाइडिंग बैरियर की व्यवस्था की गई जिससे ट्रेनों का परिचालन समयबद्ध होगा। यात्री सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए इस वर्ष 148 स्टेशनों पर हाईस्पीड वाई-फाई की सुविधायें प्रदान की गई। 12 स्टेशनों पर एट ए ग्लांस डिसप्ले बोर्ड की स्थापना की गई। उसलापुर पर कोच गाईडेंस डिसप्ले बोर्ड और ट्रेन इंडीकेशन बोर्ड जैसी सुविधायें इस विभाग के द्वारा प्रदान की गई ।

सिगनल एवं दूरसंचार विभाग में विगत वर्षो में सिगनलिंग सर्किटों को और बेहतर एवं विश्वसनीय बनाने के लिये कई इनोवेशन किये गये जिसके लिए विभाग को पुरस्कृत भी किया गया है । विभाग द्वारा विगत वर्ष 2019-20 में विभन्न विषयों पर कुल 11 तकनीकि सेमिनार एवं वर्कशॉप का आयोजन किया गया, जिससे अधिकारियों को तकनीकि कुशलता में वृद्धि हुई तथा इस विभाग ने अपनी सिगनल विफलताओं में पिछले वर्ष की तुलना में लगभग 23% की कमी दर्ज की है, साथ ही टेलीकॉम सर्किटों की दक्षता 99.99% प्राप्त की है, इससे ट्रेनो की समयबद्ध परिचालन में सुधार आया साथ ही रेलवे बोर्ड द्वारा दिये गये लक्ष्यों को समय से सफलतापूर्वक प्राप्त किया है । इन उपलब्धियों को देखते रेलवे बोर्ड के द्वारा सिगनल एवं दूरसंचार विभाग, दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे को उत्कृष्ट कार्यो के लिये वर्ष 2020 का शील्ड प्रदान किया गया है ।

Copyright © All rights reserved. | CG Varta.com | Newsphere by AF themes.