महापौर ने विकास भवन का किया औचक निरीक्षण, अधिकारी और कर्मचारियों को दिया निर्देश

1 min read

बिलासपुर. महापौर रामशरण यादव ने विकास भवन नगर निगम कार्यालय का मंगलवार सुबह 11.34 को औचक निरीक्षण किया। इस दौरान नगर निगम के कई इंजिनीयर कार्यालय नहीं पहुंचे थे। वहीं अधिकारी, कार्मचारी कार्यालय से नदारद रहे। महापौर ने नाराजगी जताते हुए सभी को समय पर कार्यालय पहुंचे और काम खत्म कर समय पर जाने के निर्देश दिए। साथ ही रजिस्टर बना कर सभी डीपार्टमेंट के कर्मचारी का दस्तखत करने के निर्देश दिए। मंगलवार से महापौर रामशरण यादव विकास भवन स्थित महापौर कक्ष में बैठना शुरु कर दिए है। कोरोना के कारण शासन के द्वारा जारी कोविड के निर्देश को ध्यान में रखते हुए।

महापौर रामशरण यादव नगर निगम के टॉउनहॉल और विकास भवन के कक्ष में न बैठ अपने सरकारी आवास से ही लोगो की समस्या सुन उसका निराकरण कर रहे थे। लेकिन कोरोन का प्रभाव कम होने और लोगों की समस्या का निराकरण करने मंगलवार से महापौर रामशरण यादव नगर निगम के विकास भवन में निर्मित महापौर कक्ष में बैठना शुरु कर दिया है। मंगलवार को सुबह महापौर रामशरण यादव और सभापति शेख नजीरुद्दीन विकास भवन पहुंचे। सबसे पहले जन्म मृत्यू प्रमाण पत्र शाखा में पहुंचे जहां दो कर्मचारी नदारद थे इसके बाद पेंशन शाखा गए। फिर भवन शाखा और बाजार शाखा का निरीक्षण किया। फिर आवास शाखा और सिवरेज सेल पहुंचे। सभी जगह अधिकारी कर्मचारी नदारद रखे साथ ही11: 34 बजे के बाद भी कई इंजीनीयर दफ्तर नहीं पहुंचे। निरीक्षण के बाद महापौर ने नाराजगी जताते हुए। सभी विभाग के प्रभारी अधिकारियों को निर्देश दिए कि अपने – अपने विभाग में उपस्थिती रजिस्टर्ड रखे आने और जाने का समय भी लिखे। साथ ही सभी को समय पर कार्यालय आने और काम खत्म कर निर्धारित समय पर ही जाने कहा।

कल्पना मांझी का स्थानांतरण
महापौर रामशरण यादव को लागातार वार्ड पार्षदो और नगागरिको से शिकायत मिल रही थी कि दीनदयाल अंत्योदय योजना-राष्ट्रीय अजीविका मिशन के अंतर्गत विभिन्न कार्य में सामुदायिक संगठक कल्पना मांझी के द्वारा लगातार लापरवाही की जा रही है। जिसके बाद महापौर रामशरण यादव ने उन्हें नगर निगम बिलासपुर से अन्यत्र स्थानांतरण करने अधिकारी को निर्देश दिए। ताकि योजनाओं का समुचित लाभ आम नागरिकों को मिल सकें।

Copyright © All rights reserved. | CG Varta.com | Newsphere by AF themes.