ममता के विरूद्ध अल्पसंख्यक दल भाजपा को लाभ पहुंचाऐंगे : रिजवी

File Photo

रायपुर. जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के मीडिया प्रमुख, मध्यप्रदेश पाठ्यपुस्तक निगम के पूर्व अध्यक्ष, पूर्व उपमहापौर तथा वरिष्ठ अधिवक्ता इकबाल अहमद रिजवी ने पश्चिम बंगाल चुनाव में फुरफुरा शरीफ दरगाह के पीरजादा अब्बास सिद्दीकी एवं ए.आई.एम.आई.एम. प्रमुख असद्उद्दीन ओवैसी के द्वारा प्रत्याशी खड़ा करने को गैरवाजिब बताया है तथा कहा है कि ऐसे दलों के चुनावी समर में उतरने से केवल भाजपा को ही लाभ मिलेगा। यदि भाजपा सत्ता में आती है तो वह सबसे पहले पश्चिम बंगाल के सभी बूचड़खाने बंद करने का आदेश जारी करेगी तथा लाखों लोग इससे प्रभावित होंगे तथा इससे सबसे ज्यादा नुकसान वहां के मुसलमानों को ही उठाना पड़ेगा तथा सी.ए.ए., एन.सी.आर. एवं किसान विरोधी कृषि बिल का भी बलपूर्वक भाजपा सरकार पालन करवाऐगी। ये तीनों बिल वर्ग विशेष को प्रताड़ित करने वाले हैं। यदि ममता बैनर्जी सत्ता में बने रहती है तो उन्होंने इन तीनों बिलों को कदापि लागू नहीं करने की घोषणा की है, इसलिए सभी सेक्यूलर सोच वाले दलों को टी.एम.सी. से गठबंबधन करना वक्त का तकाजा है।  रिजवी ने कहा है कि बंगाल के जागरूक मतदाता यदि अपने वोटों को कुकुरमुत्ते के समान उग आए अन्य दलों को देता है तो वह भाजपा की जीत का मार्ग प्रशस्त करने वाला सिद्ध होगा तथा भविष्य के लिए यह आत्मघाती कदम साबित होगा। रिजवी ने सत्ता में रहकर लाभान्वित टी.एम.सी. सांसदो एवं विधायकों के पलायन को भाजपा की सफल हार्स ट्रेडिंग का ज्वलंत उदाहरण बताते हुए कहा है कि बंगाल की जागरूक जनता आगामी चुनाव में दलबदलुओं को अवश्य नकारेगी तथा ममता बैनर्जी पुनः बंगाल की सत्ता की बागडोर संभालने में सफल होंगी।

Copyright © All rights reserved. | CG Varta.com | Newsphere by AF themes.