भाजपा नेताओं ने बड़ी स्क्रीन लगाकर सुनी PM की किसानों से LIVE बातचीत

1 min read

रायपुर. केंद्र सरकार के कृषि संबंधी विवादित कानूनों के खिलाफ देश भर में आंदोलन जारी है। इस आंदोलन को काउंटर करने के लिए अपने होल्ड वाले क्षेत्रों में भाजपा सड़क पर उतरी हुई है। भाजपा ने आज रायपुर के आजाद चौक स्थित महात्मा गांधी की प्रतिमा के पास धरना शुरू किया है। भाजपा नेताओं ने धरना स्थल पर बड़ी सी टीवी स्क्रीन लगाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की किसानों से बातचीत का लाइव देखा। इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक, प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय, सांसद सुनील सोनी सहित विधायक, सांसद और पदाधिकारी मौजूद रहे। बाद में सभा कर भाजपा नेताओं ने छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार को निशाने पर लिया। भाजपा नेताओं ने कहा, किसानों के मुद्दे पर कांग्रेस राजनीति कर रही है। किसानों को गुमराह किया जा रहा है जबकि कांग्रेस शासित छत्तीसगढ़ में किसान आत्महत्या कर रहे हैं।

भाजपा के इस धरने का कार्यक्रम दो दिन पहले विधायक दल की बैठक में तय हुआ था। भाजपा नेता पंजीकृत किसानों का पूरा धान खरीदने की मांग कर रहे हैं। अभी सरकार प्रति एकड़ 15 क्विंटल की दर से ही खरीदी कर रही है। भाजपा ने किसानों को धान का दाम एकमुश्त 2500 रुपया प्रति क्विंटल की दर से देने की मांग की है। अभी सरकार केंद्र से घोषित न्यूनतम समर्थन मूल्य का ही भुगतान कर रही है। शेष रकम को राजीव गांधी किसान न्याय योजना के जरिए किस्तों में देने का प्रस्ताव है।

भाजपा ने विधानसभा में किसानों की आत्महत्या का मामला उठाया था। अब वह आत्महत्या के हर मामले की विश्वसनीय जांच की मांग कर रही है। भाजपा नेताओं ने आत्महत्या करने वाले किसानों को परिजनों को 25 लाख रुपया मुआवजा देने की भी मांग की है।

धरने के दौरान भाजपा नेताओं ने तुकबंदियों के सहारे कांग्रेस सरकार पर हमला किया। पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. रमन सिंह ने कहा, चारो तरफ अंधेरा है पहरेदार लुटेरा है। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने प्रदेश की स्थिति बताते हुए कहा, छत्तीसगढ़ कंगाल है, हम सब बदहाल हैं। वहीं पूर्व मंत्री पुन्नूलाल मोहले ने किसानों की दिक्कतों का जिक्र करते हुए कहा-हमें कुछ करना है इसलिए यह धरना है।

किसानों के मुद्दे पर एक दिन के धरने में भाजपा की नजर सत्ता में वापसी पर रही। नेताओं ने इसे छिपाया भी नहीं। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा, किसानों की अहितकारी सरकार को जवाब देने के लिए हम सब को सरकार की नाकामियों को गांव- गांव पहुंचाने की जरूरत है। सदन से लेकर सड़क तक जनता की आवाज का बुलंद कर हम 2023 में सत्ता में जरूर आएंगे। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा, हमें अभी से 2023 का लक्ष्य बना कर चलना होगा। पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा, हमें समाज के हित में संघर्ष भाव को और मजबूत करते हुए 2023 के विजय लक्ष्य पर काम करना होगा।

यह भी प्रमुख मांगे

  1. धान संग्रहण केंद्रों में खराब हुए धान की जांच की जाए।
  2. धान खरीदी की समय-सीमा में वृद्धि की जाए।
  3. दो सालों से बकाया धान का बोनस किसानों को दिया जाए।
Copyright © All rights reserved. | CG Varta.com | Newsphere by AF themes.