बीमार बेटे को बचाने ऊंट की बलि के नाम परबाबा ने ठग लिये 4.15 लाख रुपये

1 min read

बिलासपुर. बीमार बेटे का इलाज कराने के लिये परेशान मंडी का एक कर्मचारी टीवी पर आने वाले ठग बंगाली बाबा के झांसे में आ गया। उसने उसके पीछे 4.15 लाख रुपये उड़ा डाले। रुपयों की व्यवस्था उसने लोन लेकर भी की। जब डरा-धमकाकर आगे और भी रकम वसूलने का दबाव बनाया जाने लगा तो कर्मचारी ने पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई। कोटा थाना के पड़ावपारा निवासी देवानंद यादव कृषि उपज मंडी में कार्यालय सहायक है। उसका बेटा धीरज पिछले कुछ समय से बीमार चल रहा था। इसी दौरान उसने टीवी पर एक बंगाली बाबा का विज्ञापन देखा जिसमें दावा किया गया था कि वह हर प्रकार की बीमारी का शर्तिया इलाज करता है। बताये गये नंबर पर देवानंद ने फोन किया तो उससे रजिस्ट्रेशन के नाम पर पहले 5500 रुपये एक एकाउन्ट में जमा कराया गया। बाद में विश्वास जमाने के लिये ढोंगी बाबा ने नींबू, सुई, अगरबत्ती आदि घर के दरवाजे पर लटकाने के लिये कहा। ढोंगी बाबा ने इसके बाद उसे बताया कि उसके घर में दो नागों का बसेरा है, जिनको भगाने के लिये ऊंट की बलि देनी पड़ेगी। इसके नाम पर उसने कुल 4 लाख 15 हजार रुपये अपने एकाउंट में जमा करा लिये। इस बड़ी रकम की व्यवस्था के लिये पीड़ित देवानंद को अपने बैंक और परिचितों से उधार भी लेना पड़ा। इतनी रकम देने के बाद भी जब बच्चे की तबियत में सुधार नहीं हुआ। दूसरी तरफ बंगाली बाबा ने कहा कि उसे आखिरी बार दो लाख रुपये और जमा करने हैं। इसके बाद बच्चे की तबियत ठीक हो जायेगी। देवानंद इससे परेशान हो गया और उसने आगे रकम देने से मना कर दिया, तब बंगाली बाबा उसे लगातार फोन कर अपनी तांत्रिक विद्या का डर दिखाने लगा। वह कहने लगा कि अनुष्ठान पूरा नहीं होगा तो उसकी व उसके बच्चे की मौत हो जायेगी। इससे देवानंद डर गया और उसे अहसास हो गया कि उसके साथ ठगी हो गई है। उसने कोटा थाना में घटना की रिपोर्ट दर्ज कराई है।

Copyright © All rights reserved. | CG Varta.com | Newsphere by AF themes.