बर्थडे स्पेशल : कुली से लेकर बस कंडक्टर तक का काम करने वाले रजनीकांत यूं बने सुपरस्टार

1 min read

बॉलीवुड और टॉलीवुड के सुपरस्टार रजनीकांत आज अपना 70वां जन्मदिन मना रहे हैं. रजनीकांत के करोड़ों फैंस उन्हें जन्मदिन की बधाई दे रहे हैं.12 दिसंबर 1950 को रजनीकांत का जन्म बेंगलुरू के मराठी परिवार में हुआ था. गरीब परिवार में जन्मे रजनीकांत ने अपनी मेहनत और कड़े संघर्ष की बदौलत टॉलीवुड में ही नहीं बॉलीवुड में भी काफी नाम कमाया. साउथ में तो रजनीकांत को थलाइवा और भगवान कहा जाता है. दरअसल फिल्मों में दमदार एक्टिंग करने वाले रजनीकांत असल जिंदगी में जरूरतमंदों की दिल खोलकर मंदद भी करते हैं. वह रियल लाइफ इंस्पिरेशन भी हैं.

प्रधानमंत्री मोदी ने भी रजनीकांत को दी जन्मदिन की बधाई

आज रजनीकांत के जन्मदिन पर प्रधानमंत्री मोदी ने भी ट्वीट कर उनको जन्मदिन की बधाई दी है और उनके दीर्घायु और स्वस्थ जीवन की कामना की है.

रजनीकांत- जिन्होंने पैसा कमाने के लिए कुली का भी किया काम

रजनीकांत का असली नाम शिवाजी राव गायकवाड़ है. उनके पिता का नाम रामोजी राव गायकवाड़ था और वह हवलदार थे. चार भाई-बहनों में रजनीकांत सबसे छोटे थे. जब वह सिर्फ चार साल के थे तभी उनकी माता का निधन हो गया था जिसके बाद उनका पूरा परिवार टूट गया. रजनीकांत को घर की खस्ता हालत का अहसास हुआ और फिर उन्होंने कुली का काम करना शुरू किया. उन्होंने बढ़ई का काम भी किया. कुछ समय बाद उन्हें बेंगलुरू परिवहन सेवा में बस कंडक्टर की नौकरी मिल गई.

इस तरह फिल्मों में आए

रजनीकात काम तो कर रहे थे लेकिन उन्हें फिल्मी दुनिया काफी लुभाती थी. वह पर्दे पर आकर एक्टिंग करना चाहते थे. कंडक्टर की नौकरी करते हुए ही उन्होंने कन्नड़ रंगमंच में काम करना भी शुरू कर दिया. इसके बाद फिल्मों में काम करने के अपने सपने को पूरा करने के लिए रजनीकांत ने अपने एक दोस्त की मदद से 1973 में मद्रास फिल्म इंस्टीट्यूट में दाखिला ले लिया और एक्टिंग में डिप्लोमा हासिल किया. रजनीकांत ने 25 साल की उम्र में अपने फिल्मी करियर की शुरूआत की. उनकी पहली तमिल फिल्म ‘अपूर्वा रागनगाल’ थी. इस फिल्म में उनके साथ कमल हासन और श्रीविद्या भी थीं. 1975 से 1977 के बीच उन्होंने ज्यादातर फिल्मों में कमल हासन के साथ विलेन की भूमिका ही की. लीड रोल में उनकी पहली तमिल फिल्म 1978 में ‘भैरवी’ आई. ये फिल्म काफी हिट रही और रजनीकांत स्टार बन गए.

अलग स्टाइल बना पहचान

इसके बाद रजनीकांत ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और एक के बाद एक कई सुपहिट फिल्में दी. उनका अलग स्टाइल उनकी पहचान बन गया. जल्द ही अपने बोलने के अलग अंदाज और दमदार अभिनय की बदौलत वह साउथ सिनेमा के सुपस्टार बन गए. साउथ में शोहरत की बुलंदियां छूने के बाद रजनीकांत ने बॉलीवुड का रुख किया और फिल्म ‘अंधा कानून’ से डेब्यू किया. बॉलीवुड में भी अपनी दमदार एक्टिंग और सिग्नेचर स्टाइल से उन्होंने लोगों को अपना दीवाना बना लिया. उनका सिगरेट को फ्लिप करने का अंदाज हो या सिक्का उछालने का यूनिक स्टाइल हो या चश्मा पहनने और हंसने का अंदाज सभी को काफी पसंद किया गया. देश ही नहीं विदेशों में भी रजनीकांत के स्टाइल की कॉपी की गई.

बॉलीवुड में भी कई सुपरहिट फिल्में दीं

बॉलीवुड में रजनीकांत ने 2.0, इंसाफ कौन करेगा, खून का कर्ज, क्रांतिकारी, मेरी अदालत, जॉन जॉनी जनार्दन, भगवान दादा, अंधा कानून, चालबाज और इंसानियत का देवता जैसी फिल्मों में काम किया है. रजनीकांत को एशिया का सबसे महंगा स्टार भी कहा जाता है. वह एक फिल्म का 80 करोड़ के आसपास फीस लेते हैं.

कई पुरस्कारों से किए गए सम्मानित

सिनेमा जगत को बेहतरीन फिल्में देने वाले रजनीकांत को 2014 में 6 तमिलनाड़ु स्टेट फिल्म अवॉर्ड्स से सम्मानित किया जा चुका है. इनमें से चार सर्वश्रेष्ठ अभिनेता और दो स्पेशल अवार्ड्स फॉर बेस्ट एक्टर के लिए दिए गए थे. उन्हें साल 2000 में पद्म भूषण से भी सम्मानित किया गया था. 2014 में 45वें इंटरनेश्नल फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया में रजनीकांत को सेंटेनरी अवॉर्ड फॉर इंडियन फिल्म पर्सनेलिटी ऑफ द ईयर से भी सम्मानित किया गया था.

रजनीकांत का परिवार

31 साल की उम्र में रजनीकांत ने लाथा से 26 फरवरी 1981 में शादी की थी. उनकी दो बेटियां हैं. बड़ी बेटी ऐश्वर्या रजनीकांत डायरेक्टर हैं और उन्होंने एक्टर धनुष से शादी की है. वहीं उनकी छोटी बेटी सौन्दर्या रजनीकांत डायरेक्टर, प्रोड्यूसर और ग्राफिक डिजाइनर हैं.

Copyright © All rights reserved. | CG Varta.com | Newsphere by AF themes.