पूरे परिवार को मौत के घाट उतार फांसी पर झूला युवक, गृहमंत्री ने दिए जांच के आदेश

रायपुर. रायपुर के अभनपुर में मां, पत्नी और दो बच्चों की हत्या के बाद खुदकुशी मामले में कारणों का अब तक खुलासा नहीं हो पाया है। मृतकों के परिवार वालों ने बिलखते हुए कहा कि हमें कुछ नहीं पता कि आखिर कमलेश ने ऐसा कदम क्यों उठाया। अगर उसने अपनी परेशानी हमें बतायी होती तो हम कुछ मदद करते। उधर, पुलिस की जांच जारी है। अभनपुर थाने से मिली जानकारी के मुताबिक बच्चों और महिलाओं के गले पर निशान मिले है। आशंका है कि आरोपी कमलेश ने पहले मां, पत्नी और बच्चों की गला दबाकर हत्या की होगी। फिर फंदे से झूलकर आत्महत्या कर ली होगी। मामले को गंभीरता से लेते हुए गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू ने जांच के निर्देश दिए हैं।


दरअसल, केंद्री गांव निवासी 32 साल के कमलेश साहू ने सोमवाररात अपनी पत्नी प्रमिला साहू (30) , दो बच्चों बेटी कीर्ति (10), बेटा नरेंद्र (6) और मां ललिया बाई (60) की हत्या के बाद फांसी लगा ली। मीडिया से बात करते हुए कमलेश के भाई डोमार साहू ने कहा कि परिवार की किसी से दुश्मनी नहीं थी, किसी तरह की आर्थिक परेशानी भी नहीं थी। कोई परेशानी थी तो हमसे कहता तो हम मदद करते लेकिन अब कुछ नहीं बचा। कमलेश के भाई का घर भी पास में है। उसने बताया कि किसी तरह के विवाद या झगड़े की कोई बात नहीं थी। तीन दिन पहले सभी ने मिलकर दीपावली मनाई और अब इस तरह से भाई की ओर से उठाए गए इस कदम से हम सभी हैरान हैं।


कमलेश के घर पर सुबह नल से पानी बह रहा था। पड़ोस में रहने वाली एक महिला ने कमलेश की पत्नी को आवाज दी। टंकी से पानी ओवरफ्लो हो रहा था। काफी देर तक आवाज देने के बाद भी कोई बाहर नहीं आया। महिला ने खिड़की से अंदर झांक कर देखा तो उसे कमलेश का फंदे से झूलता शव दिखा। इसके बाद घटना की सूचना गांव की सरपंच को दी गई। सरपंच ने बताया कि मैंने भी कमलेश के शव को देखा और पुलिस को जानकारी दी।


कमरा खुलने पर सभी घरवालों की लाशें मिली। इस पूरे मामले में अब तक कुछ भी साफ नहीं हो सका है। ना ही घटना के कारण और ना ही हत्या का तरीका। फिलहाल शवों को पोस्टमार्टम के लिए रायपुर भेजा गया है। पोस्टमार्टम के बाद ही मौत के कारणों के संबंध में जानकारी मिल पाएगी। हालांकि घटनास्थल पर पड़े बच्चों के मुंह पर झाग देखा गया। शवों की स्थिति को देकर अनुमान लगाया गया कि रात के खाने में कमलेश ने परिवार के लोगों को कुछ मिलाकर खिला दिया और खुद फांसी लगा ली होगी। जहर के असर से बूढ़ी मां, पत्नी और दो बच्चे नींद में ही मर गए। घटनास्थल पर मारपीट या किसी तरह के संघर्ष के कोई निशान नहीं है। शव बिस्तर पर थे और शरीर पर कंबल था।


कमलेश की पत्नी के पैरों में सूजन थी। बावजूद इसके वो काम पर जाया करती थी। वह मजदूरी करती थी। कमलेश वेल्डिंग का काम करता था। परिवार में पैसों को लेकर इस तरह की कोई तंगी नहीं थी जिसकी वजह से यह घटना हुई हो। किसी बड़े कर्ज की बात से भी परिवार के लोगों ने इंकार किया। बताया जा रहा है कि कमलेश को पथरी की समस्या थी, उसकी पत्नी को किडनी संबधी बीमारी और थाइरॉइड की शिकायत थी। अब तक हुई जांच में पुलिस को किसी तरह का कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। एसएसपी अजय यादव ने इस बात की पुष्टि की है कि मामला बाहरी व्यक्ति द्वारा पूरे परिवार की हत्या का नहीं हैं। कमलेश ने ही अपने 4 घरवालों की जान ली और खुदकुशी की है।

गृह मंत्री ने दिए जांच के निर्देश : एक ही परिवार के पांच लोगों की मौत के मामले को गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू ने गंभीरता से लेते हुए जांच के निर्देश दिए हैं। श्री साहू ने रायपुर जिले के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय यादव से दूरभाष पर चर्चा की और कहा कि एक ही परिवार के पांच लोगों की मौत होना बड़ी बात है। उन्होंने मौत के कारणों का पता लगाने और इसकी गहराई से जांच कराने के निर्देश दिए है। उन्होंने मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारियों को शवों को लाने और पोस्टमार्डम पर भी ध्यान देने के निर्देश दिए है।

Copyright © All rights reserved. | CG Varta.com | Newsphere by AF themes.