पंजाब नेशनल बैंक मैनेजर गिरफ्तार, करोड़ों रुपए के फर्जी लोन निकालने का आरोप

1 min read

बिलासपुर. बिलासपुर में उड़ान माइक्रो फाइनेंस कंपनी के मालिक विश्वजीत भौमिक के साथ करोड़ों के घोटाले में शामिल पंजाब नेशनल बैंक के तत्कालीन मैनेजर रवि पटनायक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। रवि पटनायक लम्बे समय से फरार था। दरअसल, लोन दिलाने के नाम पर विश्वजीत भौमिक ने करोड़ों रुपए का घोटाला किया था, भौमिक के साथ व्यापार विहार शाखा के पंजाब नेशनल बैंक मैनेजर रवि पटनायक की भी मिलीभगत थी। इन्होंने फर्जी तरीके से दस्तावेज तैयार कर कई लोगों के नाम पर लोन निकाल लिए थे। मामले में अलग-अलग थानों में कंपनी के मालिक विश्वजीत भौमिक के खिलाफ करोड़ों रुपए के फर्जी लोन निकालने का मामला दर्ज किया गया था। आरोपी विश्वजीत की गिरफ्तारी पहले हो चुकी थी, लेकिन उसके साथ फर्जीवाड़े में शामिल तत्कालीन बैंक मैनेजर रवि पटनायक फरार चल रहा था। जिसे सिरगिट्टी पुलिस ने उनके घर से गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस मामले में आगे की कार्रवाई कर रही है।

37 पीडितों का नाम सामने आया

कर्ज दिलाने का झांसा देकर बैंकों की कर्मचारियों की मिलीभगत से करोड़ों रुपए का घोटाला करने वाले आरोपी विश्वजीत भौमिक व उसकी प|ी की जालसाजी के अभी तक 37 प्रकरण सामने आ चुके हैं। पीड़ित कार्रवाई करने हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस सहित मुख्यमंत्री, गृहमंत्री सहित अन्य को पत्र लिख चुके हैं। उन्होंने साफ कहा है कि यह घोटाला बैंक अधिकारियों की मिलीभगत के बिना संभव नहीं है। उन्होंने इस केस की जांच एसआईटी से कराने की मांग की है।

इन बैंकों पर चल रही जांच

विश्वजीत भौमिक व उसकी पत्नी रोमा को लोन देने वालों में पंजाब नेशनल बैंक के अलावा, बैंक ऑफ बड़ौदा राजकिशोर नगर ब्रांच व कैनरा ब्रांच का भी नाम है। एएसपी सिटी ओपी शर्मा का कहना है कि जांच पूरा होने के बाद जो भी दोषी पाए जाएंगे सभी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। विश्वजीत भौमिक पर भारत निर्माण,एनएसआई की कई मुहर भी बनाई थी जिसके माध्यम से बैंक की गारंटी को तुड़वाकर रुपए आहरण कर चुका है।

पुलिस की 10 सदस्यीय टीम कर रही जांच

करोड़ों ठगने के आरोपी विश्वजीत भौमिक मामले के उजागर होने से पहले ही फरार है। मामले की जांच व उसकी तलाश के लिए आईजी प्रदीप गुप्ता के निर्देश पर एसपी प्रशांत अग्रवाल ने 10 सदस्यीय टीम का गठन किया है। इसमें एएसपी सिटी ओपी शर्मा, कोतवाली सीएसपी विश्वदीपक त्रिपाठी, सिविल लाइन सीएसपी एसएस पैंकरा, डीएसपी निमिषा पांडेय, टीआई कलीम खान, एसआई इब्राहिम कुरैशी, सिरगिट्टी टीआई यूएन शांत कुमार साहू, उमेश, विनोद शर्मा, टेकराम पाठक और जीवन साहू हैं। मैनेजर को दाेषी पाए जाने पर बैंक मैनेजर राजेश शर्मा को विभाग से निलंबित कर दिया गया है। उसकी विभागीय जांच भी शुरू कर दी गई है।

Copyright © All rights reserved. | CG Varta.com | Newsphere by AF themes.