जानें किन-किन राज्यों में खुल गए हैं सिनेमा हॉल, किस राज्य में कितनी फीसद सीटें भरी जा रही हैं

1 min read

नई दिल्ली. देश में कोरोना संक्रमण के नए मामलों में कमी देखने को मिल रही है. इससे कई राज्यों में धीरे-धीरे सिनेमाघर, मल्टीप्लेक्स खोले जा रहे हैं. देश के बड़े सिनेमाघरों और मल्टीप्लेक्स को लंबे समय तक बंद रहने की वजह से करोड़ों का नुकसान हो चुका है. अब कई राज्यों की सरकारें कहीं पूरी दर्शक क्षमता से तो कहीं आधी दर्शक क्षमता से सिनेमाघर को खोलने इजाज़त दे रही हैं.

केरल की सरकार ने राज्य में मंगलवार से सिनेमाघरों को खोलने की अनुमति दी है. राज्य में 50 फीसदी दर्शक क्षमता के साथ सिनेमाघरों खुले हैं. सरकार के इस कदम से मलयालम फिल्म उद्योग को बड़ी राहत मिल सकती है. सिनेमाघरों को कोरोना से संबंधित नियमों का पालन भी करना होगा.

तमिलनाडु में पूरी दर्शक क्षमता से खुले सिनेमाघर

तमिलनाडु सरकार ने सोमवार को सिनेमाघर पर लगी 50 प्रतिशत की सीमा को हटाया है और पूरी क्षमता के साथ खोलने की अनुमति दी है. इससे पहले राज्य में नवंबर 2में 50 फीसदी क्षमता के साथ सिनेमाघर खोलने की इजाजत मिली थी. अब करीब 9 महीने बाद राज्य में सिनेमाघर पहले की भांति सुचारू रूप से चल सकेंगे. साथ ही सिनेमाघरों में कोरोना संबंधी प्रोटोकॉल का पालन करना होगा.

वहीं, ओडिशा सरकार भी 1 जनवरी से 50 फीसदी दर्शक क्षमता के साथ सिनेमाघरों को खोलने की इजाजत दे चुकी है. गौरतलब है कि केंद्र सरकार से अक्टूबर में सिनेमाघरों को खोलने की इजाजत मिलने के बावजूद राज्य में सिनेमाघर नहीं खोले गए थे. वहीं पश्चिम बंगला में सिंगल स्क्रीन सिनेमाघर के मालिकों ने सरकार से पूरी दर्शक क्षमता के साथ थिएटर खोलने की अनुमति देने की मांग की है.

अक्टूबर में सरकार ने दी थी सिनेमाघर खोलने की इजाजत

गौरतलब है कि अनलॉक 5 के तहत अक्टूबर माह में सिनेमाघरों को खोलने की इजाजत दे दी गई है. इसके बाद दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, मध्य प्रदेश, गुजरात, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक जैसे राज्यों ने 50 फीसदी दर्शक क्षमता के बाद सिनेमाघरों को खोलना शुरू किया था. इसके बाद महाराष्ट्र और तमिलनाडु जैसे राज्यों ने भी सिनेमाघर खोले थे. सिनेमाघरों में प्रवेश से पहले मास्क पहनने, सोशल डिस्टेंसिंग और सैनीटाइजेशन जैसे नियम लागू किए गए थे.

Copyright © All rights reserved. | CG Varta.com | Newsphere by AF themes.