गौतम गंभीर की जन रसोई में कैसे मिल रहा एक रुपये में भरपेट खाना? दिल्ली में कहां-कहां खा सकते हैं

1 min read

नई दिल्ली. दिल्ली से भारतीय जनता पार्टी के सांसद गौतम गंभीर ने ‘जन रसोई’ भोजनालय की शुरुआत की है. जिसमें उनके संसदीय निर्वाचन क्षेत्र पूर्वी दिल्ली में जरूरतमंद लोगों को महज एक रुपये में दोपहर का भोजन दिया जा रहा है. हालांकि आलम ये है कि जन रसोई पर खाना खाने के लिए लोगों की काफी भीड़ उमड़ रही है. सबसे पहले गांधी नगर में पहले भोजनालय की शुरुआत की गई है. वहीं अब गणतंत्र दिवस पर अशोक नगर में भी ऐसा ही भोजनालय खोले जाने की उम्मीद है.

24 दिसंबर को गौतम गंभीर की ओर से जन रसोई की शुरुआत की गई थी. इस रसोई में जरूरतमंद लोगों को सिर्फ एक रुपये में दोपहर का खाना परोसा जा रहा है. वहीं इस जन रसोई में दोपहर 12 बजे से 2 बजे के बीच लोगों को सबसे पहले खाने का टोकन बांटा जाता है. इसके बाद 50-50 की संख्या में जन रसोई के अंदर जाकर लोग खाना खा सकते हैं. इस दौरान कोरोना वायरस से जुड़े प्रोटोकॉल का भी जन रसोई में ध्यान रखा जा रहा है.

पूर्वी दिल्ली में जन रसोई

वहीं जन रसोई को लेकर गौतम गंभीर ने कहा था कि जाति, पंथ, धर्म और वित्तीय हालात से परे सभी को स्वस्थ और स्वच्छ भोजन करने का अधिकार है. यह देखकर अफसोस होता है कि बेघर और बेसहारा लोगों को दिन में दो वक्त की रोटी भी नसीब नहीं हो पाती. वहीं गंभीर ने पूर्वी दिल्ली के दस विधानसभा क्षेत्रों में कम से कम एक जन रसोई भोजनालय खोलने की योजना बनाई है.

पूरी तरह से आधुनिक

गौतम गंभीर के कार्यालय ने बताया कि देश के सबसे बड़े थोक कपड़ा बाजारों में शुमार गांधी नगर में खोली गई जन रसोई पूरी तरह आधुनिक है, जिसमें जरूरतमंदों को एक रुपये में भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है. एक समय में 100 लोगों के बैठने की व्यवस्था है लेकिन कोविड-19 महामारी के चलते केवल 50 लोगों को ही बैठने की अनुमित दी जा रही है. दोपहर के भोजन में चावल, दाल और सब्जी दी जा रही है. इस परियोजना का वित्तपोषण गौतम गंभीर फाउंडेशन और सांसद के निजी संसाधनों से किया जाएगा और सरकार की मदद नहीं ली जाएगी.

Copyright © All rights reserved. | CG Varta.com | Newsphere by AF themes.