कोरोना के नए स्ट्रेन का खौफ, अब तक इन देशों में सामने आए केस

1 min read

नई दिल्ली. कोरोना वायरस (कोविड-19) का कहर अभी थमा नहीं है. कई देश अभी भी कोरोना वायरस के कारण परेशानी में है. इस बीच कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन ने भी हाहाकार मचा रखा है. कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन के सामने आने के बाद कई देशों ने एहतियात के तौर पर कदम उठाए हैं. वहीं कई देशों ने फिर से लॉकडाउन भी लागू किया है. इसके अलावा कई जगहों पर फ्लाइट्स पर भी रोक लगाई गई है.

विश्व के कई देश कोरोना वायरस की समस्या से अभी तक जूझ रहे हैं. इस बीच कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन के मामले भी सामने आ रहे हैं. सबसे पहले ब्रिटेन में कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन की पुष्टि हुई थी. इसके बाद कई देशों ने ब्रिटेन से आने वाली फ्लाइट्स को ही रद्द कर दिया. यूरोप के कई देशों में कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन अपने पांव पसार रहा है, जिसके कारण चिंता बढ़ गई है.

इन देशों में मिला नया स्ट्रेन

ब्रिटेन के बाद अब स्पेन, स्वीडन और स्विटजरलैंड में भी नए कोरोना वायरस के स्ट्रेन के पुष्टि हुई है. वहीं फ्रांस में भी कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन मिला है. इसके अलावा डेनमार्क, जर्मनी, इटली, नीदरलैंड्स और ऑस्ट्रेलिया में भी कई लोगों में कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन पाया गया है. वहीं दक्षिण अफ्रीका में भी कोरोना वायरस का एक नया स्ट्रेन मिला है. यह ब्रिटेन के नए स्ट्रेन से अलग है. वहीं कनाडा, जापान, लेबनान, सिंगापुर और नाइजीरिया में भी कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन के मरीजों की पुष्टि हो चुकी है.

ज्यादा संक्रामक

दुनिया में नए कोरोना वायरस के स्ट्रेन के कारण लोगों की चिंताएं बढ़ी है. इसके पीछे सबसे बड़ी वजह ये है कि वायरस का ये स्ट्रेन काफी तेजी से फैलता है और लोगों को जल्दी संक्रमित करता है. इसके म्यूटेशन से वायरस के उन हिस्सों में बदलाव देखने को मिला है जो इंसान की कोशिकाओं पर असर डालते हैं. कुछ म्यूटेशन के कारण वायरस की इंसानी कोशिकाओं को संक्रमित करने की क्षमता बढ़ जाती है. कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन 70 फीसदी ज्यादा संक्रामक है.

Copyright © All rights reserved. | CG Varta.com | Newsphere by AF themes.