किसानों से ठगी करने वाले अंतर्राज्यीय गिरोह के तीन 3 आरोपी हुए गिरफ्तार, जानें कैसे हुआ खुलासा

बिलासपुर. फलदार वृक्ष लगाने के एवज में किसानों से इंडिया बायोटेक के नाम पर लाखों की ठगी करने वाले ठगबाजों को धर दबोच ने में बिलासपुर पुलिस को बड़ी सफलता मिली है । मिली जानकारी के अनुसार किसानों को फलदार वृक्ष के नाम पर ठगी की जाती थी। यह गिरोह किसानों को ऑर्गेनिक खाद्य का डीलरशिप देने के नाम पर भी ठगा करता था। जिसकी शिकायत पुलिस को किसानों से लगातार मिल रही थी।इस आपरेशन के लिए पुलिस ने एक स्पेशल टीम बनाई । कार्रवाई में तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने आरोपियों के पास से ढाई लाख रुपए भी जप्त किए हैं।

आरोपियों के पास बिलासपुर पुलिस को कई बैंक अकाउंट के पासबुक, एटीएम कार्ड, मोबाइल फोन, किसान इंडिया बायोटेक की पर्ची रासायनिक खाद्य समेत कई चीजें बरामद हुई है। इस गिरोह की झांसे में सबसे ज्यादा रायगढ़, बिलासपुर ,जांजगीर, मध्य प्रदेश के सागर, दमोह, बैतूल, देवास, छिंदवाड़ा के अलावा पंजाब उड़ीसा और बिहार के सैकड़ों किसान इसके शिकार हुए। बिलासपुर पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। उसमें तीन आरोपी राजनांदगांव के रहने वाले हैं। इसमें शक्ति सिंह पिता सतीश सिंह, प्रदीप शर्मा पिता घनश्याम शर्मा, कृष्ण मोहन पांडे पिता सीताराम पांडेय शामिल है। पुलिस इन तीनों के अलावा भी गिरोह के अन्य सदस्यों की तलाश में जुटी हुई है ।

 

पुलिस ने बताया कि इस गिरोह के सदस्य किसानों के खेत में जा जाकर फलदार वृक्षों के बारे में जानकारी देते और पौधे देकर अपने विश्वास में किसानों को लेते थे इसके बाद किसानों को इंडिया बायोटेक के नाम पर जोड़कर ऑर्गेनिक खाद की डीलरशिप देने के नाम पर 50 हजार से दस लाख रुपए तक की ठगी करते थे। यह रकम गिरोह चेक के माध्यम से लेते थे। किसानों को यह गिरोह झांसा देते थे कि वे प्रतिमाह 1 लाख इंवेस्टमेंट करेंगे तो हर महीने दस हजार कमाने का झांसा देते थे।मामले को सुलझाने वाली टीम को बिलासपुर आईजी दीपांशु काबरा, एसपी प्रशांत अग्रवाल द्वारा नगद इनाम देने की घोषणा की है। टीम में थाना प्रभारी शानिप रात्रे, कलीम खान साइबर सेल प्रभाकर तिवारी, अवधेश सिंह, विकास राम, धर्मेंद्र साहू,नवीन एक्का,विकास यादव,सन्तोष यादव की सराहनीय भूमिका रही।

Copyright © All rights reserved. | CG Varta.com | Newsphere by AF themes.