उर्दू शिक्षक नियुक्ति 17 साल से पेंडिग : रिजवी

1 min read

रायपुर.  जकांछ मिडिया प्रमुख, छत्तीसगढ़ अल्पसंख्यक आयोग के प्रथम अध्यक्ष वरिष्ठ अधिवक्ता इकबाल अहमद रिजवी ने एक बयान में कहा है कि छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री स्व. अजीत जोगी सरकार के कार्य काल में सर्वे एवं परिक्षणोंपरान्त 473 उर्दु शिक्षकों के पद का श्रृजन किया जा कर उनकी नियुक्ति की प्रक्रिया हेतु तत्कालीन मदरसा बोर्ड के अध्यक्ष हसन खान को अधिकृत किया गया था।

READ MORE : शासन अन्य नजूल भूमि के फर्जीवाड़ों की जांच करवाकर लीज रद्द करें : रिजवी

उर्दू शिक्षकों का चयन मेरिट के आधार पर किया गया था । सन 2003 विधानसभा चुनाव की आचार सहिंता लगने के कारण चयनित सूची जारी नही हो सकी थी और भाजपा की सरकार अस्तित्व में आ गई। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह को व्यक्तिगत एवं मिडिया के माध्यम से 473 चयनित शिक्षकों के नियुक्ति आदेश कि सूची जारी करने बार-बार निवेदन किया गया, परन्तु जैसी भाजपा सरकार की मानसिकता से अपेक्षा थी 15 वर्षो तक जानबूझ कर सूची जारी नही कि गई।

READ MORE : जहां नहीं है वहां प्रेस क्लब का निर्माण हो : रिजवी

अब लगभग 2 वर्षो से कांग्रेस सत्ता में है। वर्तमान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से निवेदन है कि प्रथम मुख्यमंत्री अजीत जोगी के निर्णय को अमलीजामा पहनाने उर्दू शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया को अंजाम तक पहुचाने षिक्षा विभाग को शीघ्र निर्देशीत करने की कृपा करें।

Copyright © All rights reserved. | CG Varta.com | Newsphere by AF themes.